फैक्ट चेक – भगवा रंग में रंगी ये ईमारत नहीं है अयोध्या की, जानें सच

0 490

अयोध्या में बनने वाले रामलला के भव्य मंदिर के लिए भूमि पूजन 5 अगस्त को किया जाना है। इस खबर के साथ ही सोशल मीडिया पर अयोध्या और अयोध्या में बनने वाले मंदिर को लेकर कई खबरे वायरल होती रहती है जिनका कोई आधार नहीं होता। अयोध्या को लेकर ऐसी ही एक खबर वायरल हो रही है। जिसमे अयोध्या में एक दिवार की तस्वीर में हिन्दू भगवानों को देखा जा सकता है। और दावा किया जा रहा है कि भगवे रंग में रंगी ये दीवारे और इन पर बने भगवान् अयोध्या में स्तिथ है।

कैप्शन में लिखा है – “अयोध्या तैयार, पुरे अयोध्या शहर को भगवा रंगो से सजा दिया!!!🚩🚩🚩🚩🚩 बोलो जोर से जय श्री राम 🚩🚩🚩🙏🏻🙏🏻 जय श्री ”.

🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩अयोध्या तैयार, पुरे अयोध्या शहर को भगवा रंगो से सजा दिया!!!🚩🚩🚩🚩🚩बोलो जोर से जय श्री राम 🚩🚩🚩🙏🏻🙏🏻जय श्री राम 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

Bihari Sableya Bihari Sableya यांनी वर पोस्ट केले रविवार, २६ जुलै, २०२०

ऐसे ही कुछ पोस्ट आप यहाँ,यहाँ और यहाँ देख सकते है।

ये भी पढ़े : फैक्ट चेक | जानें मीरा भयंदर की विधायक की COVID-19 पर वायरल ऑडियो क्लिप के पीछे की सच्चाई

फैक्ट चेक :

न्यूज़ मोबाइल ने इन पोस्ट्स का फैक्ट चेक किया और पाया कि ये गलत है।

हमने खुद इन तस्वीरों को जब एक – एक कर के चेक किया तो हमे डेक्कन हेरराल्ड का 15 जुलाई 2020 का एक आर्टिकल मिला।

ANI UP ने 13 जुलाई, 2020 को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कुछ तस्वीरें पोस्ट कीं थी। ANI UP के ट्वीट में यही तस्वीरें थी जिसमें लिखा था कि तस्वीरें प्रयागराज की हैं। ट्वीट में यह भी लिखा गया था कि मालिक की सहमति के बिना ही कुछ लोगों ने सड़क पर बने घरों को भगवे रंग से पेंट कर दिया था जिसके चलते दो शिकायतें दर्ज की गई थीं।

NDTV और ABP ने भी इस खबर को रिपोर्ट किया था।

आखिरी पिक्चर का सच जानने के लिए हमने और खोज की। आखिरी इमेज के लिए हमे इकनोमिक टाइम्स का एक आर्टिकल मिला जो 20 दिसंबर 2018 को पब्लिश किया गया था।

कैप्शन में लिखा था, “इलाहाबाद में 15 जनवरी से 4 मार्च, 2019 तक चलने वाली बड़ा पवित्र पर्व। तस्वीर में: इलाहाबाद में चल रही ‘पेंट माई सिटी’ परियोजना के अंतर्गत कलाकारों ने गंगा नदी पर शास्त्री पुल के स्तंभों को चित्रित किया “।

उपरोख्त आर्टिकल्स , न्यूज़ रिपोर्ट्स और तस्वीरों से दावा कर सकते है कि ये तस्वीर अयोध्या कि नहीं है और गलत दावों के साथ शेयर की जा रही है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 88268 00707 पर व्हाट्सएप करें।